Generic Medicines क्या है ? पूरी जानकारी हिंदी में

1.Generic Medicines क्या है ? 

Medicines यानी कि दवाइयों का हमारी Health से गहरा कनेक्शन होता है यह बात सही है कि अगर हम फिट और हेल्दी रहते हैं तो दवाइयों की बहुत कभी जरूरत पड़ती है लेकिन हम सभी को कभी दवा तो लेनी पड़ती है 

और जब डॉक्टर के Prescription को लेकर हम Medicines शॉप पर जाते हैं तो कई बार दुकानदार ऐसी दवा निकाल कर देता है जो Branded Medicine का Generic Version होती है और उसका Price कम होता है तो 

ऐसे में यह सवाल आपके मन में आता होगा कि कौन सी दवाई है जिनकी Price Comfortable कम है शॉप कीपर हमें यह दवाई लेने का Suggestion क्यों दे रहा है क्या यह Generic Medicines रियल में अच्छी होती है 

या फिर सस्ती दवा का मतलब Low Quality तो नहीं ऐसे बहुत सारे सवालों के जवाब आपको इस Maxhindi.in में मिल जाएंगे इस Article को जरूर पढ़े ताकि मेडिसिन जैसी टॉपिक पर आपका  ये Concept Clear हो सके तो चलिए शुरु करते है और

2. Generic Medicines के बारे में Detail में जानते हैं

 Generic Medicines के बारे में Detail में जानते हैं जब कभी भी Medicines और Drug की बात आए तो Confuse ना हो इसे इस तरीके से समझे कि सभी Medicines Drugs होती है 

लेकिन सभी Drugs Medicines नहीं होती Medicines अक्सर Non Editing होती है जबकि Drugs Addiction पैदा करती है और उनसे Health पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है

 वैसे Generic Medicines  के बारे में हम क्या सोचते हैं ऐसा सोचा जाता है की Generic Medicines सस्ती होती है इसीलिए ये कम Effective होगी पर ये  जरूर Brand Name Product का Duplicate Version होगी 

जबकि असल में ऐसा नहीं होता है ये दवाई उतनी ही Effective और सिम Quality की होती है जितनी Branded Medicine होती है तो सवाल यह है कि यह Generic Medicines है क्या आखिर होता क्या है तो आइये जानते है 

3.Generic Medicines का मतलब क्या होता है ?

Generic Medicines का मतलब होता है सामान्य यानी यह Generic दवाई सामान्य दवाई हुई लेकिन इसका मतलब इन की Quality का कम होना नहीं है जेनेरिक मेडिसिन एक मेडिसिन है 

जो उसे ब्रांडेड मेडिसिन से Doses Sefety Strength Quality की यूजेस में सेम होती है जो ऑलरेडी मार्केट में अपनी पहचान रखती है ये Generic Medicines  बिल्कुल Branded Medicine की तरह ही Work करती है

 यानि सेम Clinical Benefits को Provide करती है यानी अब चाहे तो Branded Medicine खरीदे या चाहे  Generic Medicines के जरिए अपने हेल्थ इसु को ठीक कर ले दोनों का इफेक्ट सेम ही होगा 

Generic Medicines आपकी जेब पर पढ़ने वाले वजन को थोड़ा कम जरूर कर सकती है अब सवाल यह है कि

4. Generic Medicine Brand Name Medicine की तरह Work कैसे करती है 

 Generic Medicine Brand Name Medicine की तरह Work कैसे करती है उसका जवाब यह है कि Generic Medicines में Brand Name Medicines की तरह Same Active Ingredients Use किए जाते हैं

इसलिए उसकी Body पर रिस्क और  Benefits बिल्कुल वैसा ही है जैसा होता है जैसा Generic Medicines का होता है और इतना जानने के बाद में फिर एक सवाल आता है कि अगर Generic और Branded Medicines सेम  होती है 

तो Branded Medicines अपने जेनेरिक वर्जन से अलग क्यों दिखाई देती है उसका जवाब यह है कि दिदम्केरक लॉस के अकॉर्डिंग एक जेनेरिक मेडिसिन एग्जैक्टली उस मेडिसन के तरह नही दिख सकती है 

जैसे बांडेड Allredy मार्किट में है इन दोनों तरह की मेडिसन में Shape Size color Packaging Flavors Different हो सकती है जो इनके परफॉर्मेंस और सेफ्टी को अफेक्ट नहीं करते और जो बात की जाएगी

5.Generic Medicines Market में कब आती है 

Generic Medicines Market में कब आती है तो इस सवाल का जवाब जाने से पहले आपको यह प्रोसेस समझना होगा हर मेडिसिन के दो नाम होते हैं एक ब्रांड नेम जो कि उस फार्मास्यूटिकल कंपनी के द्वारा दिया जाता है

जो उस मेडिसिन को मार्केट में लाती है और एक जेनेरिक नाम जो उसका एक्टिव इनग्रेडिएंट होता है और ब्रांड नेम मेडिसिन की तरह ही वर्क करता है जब कोई फार्मास्यूटिकल कंपनी एक्टिव इनग्रेडिएंट वाली दवा

पहली बार मार्केट में लेकर आती है तो उसे कई सालों तक की पेटेंट के जरिए प्रोटेक्ट रखा जाता है इस पेटेंट की बदौलत ही उस दवा को बनाने वाली कंपनी को यह अधिकार मिल जाता है क्योंकि नई दवा बनाने में जितना खर्च करना पड़ा उतना प्रॉफिट भी वह कमा सके 

इस दौरान कोई भी दूसरी कंपनी उस प्रोटेक्टेड एक्टिव इनग्रेडिएंट वाली सिमिलर मेडिसिन मार्केट में नहीं ला सकती इस दवा को क्लिनिकल स्टडीज के जरिए डिस्कवर और डेवलप करने में उस कंपनी को बहुत खर्च करना पड़ता है 

और इस कर्ज को पेटेंट ड्यूरेशन के दौरान पूरा कर लिया जाता है लेकिन जब Expire हो जाता है तब दूसरी कंपनी को यह परमिशन मिल जाती है कि वह उस एक्टिव इनग्रेडिएंट 

पर बेस्ट मेडिसिन बना ले इनी दवाइयों को जेनरिक मेंडिसिंस कहा जाता है  ऐसी बहुत सी दवा है आपको मार्केट में मिल जाएगी लेकिन उनका एक्टिव इनग्रेडिएंट्स सैम ही होगा 

6.Generic Medicines का Price कम क्यों होता है ?

Eneric Medicines का Price कम क्यों होता है यहां पर जेनेरिक मेडिसिंस के सस्ते होने का रीजन यह है कि जब एक बार ब्रांड नेम मेडिसिन को बनाने में क्लिनिकल स्टडी कर ली जाती है और सिर्फ 

एक्टिव को मेजर लिया जाता है तब जेनेरिक वर्जन को बनाते टाइप इस प्रोसेस को रिपीट करने की जरूरत नहीं पड़ती जिससे उनकी कास्ट कम हो जाती है और मार्केट में भी वह कम दामों में ही मिल जाती है इसके अलावा 

7.Generic Medicines Market में Competition का माहौल भी बन जाता है 

Generic Medicines Market में होने से कंपटीशन का माहौल भी बन जाता है जिससे Customer को Low Price में मेडिसिन लेने का अवसर मिल जाता है तो वैसे आपको ये भी पता होना चाहिए कि इंडिया जेनेरिक मेडिसिंस का Biggest Exporter है 

जो यूरोप अफ्रीका के कई देशों को जेनेरिक दवाई सपोर्ट करता है तो इतना सब कुछ जान लेने के बाद में एक सवाल तो बनता है 

8.Generic Medicines इतनी Famous क्यों नहीं है Popular क्यों नहीं है ? 

तो इसका जवाब है कि गवर्मेंट ऑफ इंडिया इन जेनेरिक दवाओं का प्रमोशन तो करती है ताकि आमजन इन सस्ती दवाओं का फायदा उठा सकें लेकिन मेडिसिंस के प्रति पब्लिक की जो इग्नोररेंस है

 वह जेनेरिक दवाओं से पब्लिक को मिलने वाले फायदे को बढने नहीं देती इस भरोसे की कमी भी है जिससे बड़ी आसानी से जीता जा सकता है 

अगर सरकार के जरिए Awareness Campaign चलाई जाए और प्रशिक्षण और फार्मासिस्ट जैसे Authentic Source इन पेशेंट को जागरूक कर सके तो यह हो सकता हैबात करे की क्या वाकई में Generic Medicines की अच्छी Quality Sport हो जाती है

9.Generic Medicines की अच्छी Quality Sport हो जाती है

इसका जवाब है कि ऐसा भी माना जाता है कि जेनेरिक दवाओं की अच्छी Quality Sport कर दी जाती है और Low Quality की जेनेरिक मेडिसिंस इंडियन मार्केट में भेज दी जाती है अब इसमें कितनी सच्चाई है

या कोई सच्चाई है भी या नहीं क्या यह जेनेरिक मेडिसिंस की सेल कम करने के लिए उड़ाई गई कोई अफवाह है या फिर कुछ सच भी है यह सब तो हम भी नहीं जानते लेकिन इतना जरूर कह सकते हैं 

कि एक ग्राहक के तौर पर हम सबका अवेयर होना और हर चीज नहीं खरीदना और इस्तेमाल करना जरूरी है फिर चाहे वह मेडिसिंस ही क्यों ना हो 

कुल मिलाकर की बात यह है कि इस अफवाह को साइट रखकर समझिए तो Brand Name Medicine और Generic Medicine में Quality Vice कोई फर्क नहीं होता है और दोनों का इफेक्ट सेम होता है

तो दोस्तों यह जानकारी आपको कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में लिख करके जरूर शेयर कीजिएगा साथ ही आगे थी इंटरेस्टिंग दिलचस्पय जानकारियों के लिए बने रहे इस Blog में maxhindi.in धन्यवाद 

You Can Share This Post!

author

Aditya

By Maxhindi.in

नमस्कार दोस्तों मैं Aditya Gupta मैं हाई स्कूल में पढ़ता हूँ author होने के साथ ही मैं एक student हूँ

0 Comments

Leave Comments

captcha